रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi) – जानिये हिंदी में।

रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)

रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)” रिपोर्टिंग की पेशा अन्य पेशो से भिन्न है। इस पेशे में थोड़ी सी असावधानी, समाचार संगठन (News Organization) और समाज (Society), दोनों के लिए घातक सिद्ध हो सकती है। “रिपोर्टिंग क्या है?” इसलिए एक पत्रकार को बड़ी जिम्मेदारी के साथ अपने कार्यों का सम्पादन करना पड़ता है। एक पत्रकार की तुलना रणभूमि में चौकने सैनिक से की जाती है। जिस प्रकार एक फौजी युद्ध क्षेत्र में दृढ़ रहकर अपने कर्तव्य का सफलतापूर्वक निर्वाह करते हुए स्वयं का और देश का सम्मान बढ़ाता है। “रिपोर्टिंग क्या है?” उसी प्रकार एक पत्रकार को अपने कर्तव्यों का सफल निर्वहन करते हुए खुद का और समाचार संगठन का मान बढ़ाना चाहिए।

रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)

“रिपोर्टिंग क्या है?” पत्रकार होने का ये मतलब नहीं है कि आपने किसी सुपरमैन की तरह कोई कवच पहना हुआ है कि आप निकले और बिना किसी तरह से प्रभावित हुए रिपोर्ट कवर करने लगें।

“रिपोर्टिंग क्या है?” उसे हर दृष्टि से समाचार संकलन करना चाहिए। जब तक उसकी सत्यता का पता न चल जाए। उसे रिपोर्टिंग (Reporting) करते समय तटस्थ और निष्पक्ष खबर देनी चाहिए। “रिपोर्टिंग क्या है?” ताकि उससे पाठकों , श्रोताओं और दर्शकों में समाचार संगठन की विश्वसनीयता बढ़ सके। उसे स्वयं आम आदमी की पीड़ा को रिपोर्टिंग द्वारा महसूस करवाना चाहिए। उसके रिपोर्टिंग में वास्तविकता होनी चाहिए। जो समाचार का महत्व खोज-बीन का महत्त्व नहीं देते है। वे घोटालों और अनियामता के समाचार के सच्चाइयों को उजागर करने में असमर्थ होते है।

“रिपोर्टिंग क्या है?” अत: एक सतर्क पत्रकार को चाहिए की वे उनकी सत्यता को उजागर करके औरों से भिन्न दिखें और समाचार संगठन के निष्पक्ष तथा विश्वसनीयता को बनायें रखे। यदि यह गुण इसमें आती है तो वह न तो समाचार पत्र, पत्रिका या समाचार एजेंसियों के कार्यशौली, गुण और नीतियों का पालन कर सकता है और न ही उसका उचित निर्वहन कर सकता है। “रिपोर्टिंग क्या है?”  कोई भी पत्रकार तभी सफल पत्रकार बन सकता है। जब उसे विभिन्न जगहों से समाचारों को सम्प्रेषण करने वाले स्रोतों का विश्वास प्राप्त हो।

रिपोर्टिंग के प्रकार (Types of Reporting in Hindi)

क्राइम रिपोर्टिंग (Crime Reporting in Hindi)

अपराध की खबर सिर्फ किसी वारदात की सूचना भर नहीं होती है। अपराध की खबर लोगो को जागरूक और सतर्क करती है। क्राइम रिपोर्टिंग गंभीर और जिम्मेदारी से किया जाने वाला कार्य है लेकिन टेलीविजन पत्रकारिता में न्यूज़ चैनलों के आने के बाद कभी परेशानियाँ आगे है। सबसे पहले न्यूज़ दिखने के चकर में और टीआरपी बढ़ाने के चकर में गलत-गलत न्यूज़ दिखा दिया जा रहा है। उदाहरण- “कुछ समय पहले एक चैनल ने दिल्ली की टीचरउमा खुरानाके बारे में यह खबर चला दी की वह छात्रों से देह व्यापार कराती है। बाद में यह खबर गलत साबित हुआ।” लेकिन यहाँ सोचने वाली बात है की सबसे पहले न्यूज़ दिखाने के लिए चैनल्स कितनी गलतियां कर रही है।

क्राइम रिपोर्टर के गुण और उत्तरदायित्व (Responsibilities of Crime Reporter in Hindi)

  • अपराध रिपोर्ट में यह क्षमता होनी चाहिए की वह सत्य को खोज सके।
  • झूठी खबर को नहीं छपने दे और ना ही फैलने दे।
  • झूठ को सच्च से अलग करे।
  • उसे पुलिस और प्रशासन के दुसरे विभागों से अच्छा सम्बन्ध होना चाहिए।
  • उसे दंड संहिता (Penal Code) का ज्ञान के साथ-साथ मानहानि के बारे में भी संवैधानिक कानूनों और अवय संबंधित तथ्यों से पूर्णतया अवगत होना चाहिए।
  • यह भी जरुरी है की उसे दूसरों के सम्मान का ख्याल रखना चाहिए।

कोर्ट रिपोर्टिंग (Court Reporting in Hindi)

न्यायपालिका का लोकतंत्र में महत्वपूर्ण स्थान है। यह लोकतंत्र का तीसरा मगर स्वतंत्र संवैधानिक स्तम्भ है। भारत में न्यायालय (Court) का संविधान और संवैधानिक अधिकारों का रक्षक और प्रहरी माना गया है। कोर्ट रिपोर्टिंग के खबरों में नेताओं (Leaders), नौकरशाहों (Bureaucrats) और आम जनता (General Public) की भी हमेशा से ही दिलचस्पी रही है। आदालत की कार्यवाही की रिपोर्टिंग करते समय संवाददाताओं (Reporters) से अपेक्षा की जाती है की वे अधिक चौकने रहे। उनकी खबारों में ऐसा कुछ नहीं हो की जिससे न्यायालय की अवमानना होने की सम्भावना हो। संवाददाता को तथ्य ही खबरों में लिखना चाहिए। संवाददाता को किसी की सुनी हुई बातो को खबर नहीं बनाना चाहिए।

न्यायालय के मानहानि से बचने का उपाय

  • न्यायालय के के कार्यों में दखल नहीं देना।
  • न्यायालय की गरिमा गिरने वाली बातो से बचाना।
  • गवाह सबूतों वाली टिप्णियों से बचना।
  • न्यायाधीश पर पक्षपात का आरोप लगाने से बचाना।

सांस्कृतिक रिपोर्टिंग (Cultural Reporting in Hindi)

सांस्कृतिक रिपोर्टिंग (Cultural Reporting) की गतिविधियां खास रिपोर्टर उसे कवर करते है। इस फिल्ड में काम करने के लिए जरुरी है की रिपोर्टर को हमारे देश की हर सांस्कृतिक कार्यक्रम के बारे में जानकारी हो। नित्य में कौन सा नित्य है, ताल में कितने धुन बैठने पड़ते है, संगीत में कितने तरह के लय और धुन होते है। इन सब पर पकड़ होना चाहिए। कौन कलाकार कौन सा किरदार निभाया है। सांस्कृतिक रिपोर्टिंग में नाटक भी आता है। इसमें हर कलाकार को जानना और उनके किरदार को समझ कर खबरों में छापना, सांस्कृतिक गतिविधियाँ भी इन्सान की जिंदगी का सिस्सा है और लोगो का इससे मनोरंजन होता है।

सांस्कृतिक रिपोर्टिंग में निम्न बातो का ख्याल रखना चाहिए

  • कोई भी सांस्कृतिक कार्यक्रम के बारे में पूर्ण जानकारी होना बहुत जरुरी है।
  • हर कलाकारों का किरदार के बारे में जानना और समझाना जरुरी है।
  • कलाकारों का रियल नाम जानना और उसे नोट करना।

यह नही पढ़े- विकास संचार क्या है? (What is Development Communication in Hindi)

राजनैतिक रिपोर्टिंग (Political Reporting in Hindi)

चुनाव और राजनीति भारतीय मानस के दो बहुत पसंदीदा एवं समाज-केन्द्रित है। किन्तु यह दुरूह विषय है। रिपोर्टिंग का विषय भारतीय नागरिक के लिए अभी भी अबूझ एवं समझ से थोडा अलग विषय माना जाता है। “चुनाव राजनीती और रिपोर्टिंग उस समय आई, जब मध्य-प्रदेश में 2013 के विधानसभा चुनाव अपने शबाब पर थे।” चुनाव का विषय सिर्फ राजनीती तक सीमित नहीं है। बल्कि उसके साथ इस क्षेत्र एवं मतदाताओं की सांस्कृतिक, सामाजिक, व्यावहारिक एवं भौगोलिक असिमातएं शमिल होती है। ‘चुनाव को लेकर 3 अवधारणा काम करती है। डालो की अवधारणा, जनमानस की अवधारणा एवं मिडिया की अवधारणा है।‘ चुनाव पूरी तरह से क्रिकेट मैच है। चुनावी रिपोटिंग की अपनी चुनौतियाँ होती है।

चुनावी रिपोर्टिंग करने के तरीके

  • मतदाता से रिपोर्ट को घुमा के सवाल पूछने आना चाहिए।
  • रिपोर्टर को किसी भी दल का पक्ष नहीं लेना चाहिए।
  • रिपोर्टर का भावना निष्पक्ष होना चाहिए।

सामाजिक रिपोर्टिंग (Social Reporting in Hindi)

सामाजिक रिपोर्टिंग (Social Reporting) की गतिविधियाँ खास रिपोर्टर को कवर करने के लिए दिया जाता है। इस फिल्ड में रिपोर्टर को चौकना रहना पड़ता है। समाज में हर तरह की गतिविधियां होती है। जैसे की कोई आयोजन, सांस्कृतिक आयोजन (Cultural Events), नृत्य (Dance), कला संगीत (Art Music) इत्यादि। सामाजिक रिपोर्टिंग में ही राजनीती भी आता है। इसमें भी अगर किसी तरह की गतिविधियां होती है तो खबर बनेगी। स्कूल (School), कॉलेज (College) में कोई भी आयोजन होता है, तो वह भी सामाजिक रिपोर्टिंग में ही आता है। कभी-कभी बड़ा आयोजन होता है। जैसे महिला सशक्तिकरण (Women Empowerment), बाल मजदूरी (Child Labour) आदि पर तो रिपोर्टर को मुख्य चीफ से लेकर कार्यकर्ता का नाम खबर में देना पड़ता है।

रिपोर्टिंग के सिद्धांत (Principles of Reporting in Journalism in Hindi)

  • स्वतंत्रता (Freedom)- एक रिपोर्टर के रिपोर्टिंग करते समय आजादी यानि स्वतंत्रता की बेहद आवश्यकता होती है। जब तक रिपोर्टर खुद को स्वतंत्र महसूस नहीं करेगा तो वह तब तक खबर नहीं बना पायेगा।
  • सत्यता और शुद्धता (Truth and Purity)- रिपोर्टिंग करते समय रिपोर्टर को किसी धर्म, जाति के दबाव में आकर खबर नहीं लिखना चाहिए। जो उस खबर में सत्य है उसे ही लिखे।
  • मानवता (Humanity)- एक रिपोर्ट के अंदर इंसानियत या मानवता जरूर होने चाहिए। उसे अपनी खबर के लिए मानवता को नहीं खोनी चाहिए।
  • व्यावसायिक (Professional)- एक रिपोर्ट को ड्यूटी के समय व्यावसायिक नहीं होना चाहिए।
  • स्रोत (Source)- रिपोर्टिंग करने के लिए रिपोर्टर के पास स्रोत होना अति-आवश्यक है।
  • निष्क्षता (Flawlessness)- रिपोर्टिंग निष्पक्ष हो कर करना चाहिए।

रिपोर्टर का दायित्व (Responsibility of Reporter in Hindi)

  1. न्यूज़ हाउस के प्रति– एक न्यूज़ हाउस (News House) ना सिर्फ खबरों को प्रसारित करने हेतु होता है। बल्कि इसमें विचारधारा का समन्वय समान रूप से होता है। वास्तव में न्यूज़ हाउस अपने आप में प्रबंधन है। जिसके प्रति एक रिपोर्टर अपना दायित्व निम्नलिखित तरीके से करता है। न्यूज़ हाउस के अनुशासन को बनाये रखना, खबरों को Style Sheet के अनुसार ही लिखना, इसके व्यवसायिक व् आर्थिक रूप में हर सम्भव सहयोग करना
  2. समाज के प्रति– एक रिपोर्टर का समाज के प्रति बहुत बड़ा दायित्व होता है। जनता को सही-गलत का फर्क बताना होता है। जनता को न्याय दिलाना। समाज में बढ़ते अत्याचारों (Atrocities) और रूढ़िवादी (Conservative) परम्पराओं से निजात दिलाना।
  3. अपने के क्षेत्र प्रति– एक रिपोर्टर को कार्य क्षेत्र के प्रति ईमानदार और निष्पक्ष होना चाहिए। समाचार लिखते समय सही न्यूज़ लिखना चाहिए। जनता को भटकाना नहीं चाहिए।
  4. सरकार के प्रति– किसी भी रिपोर्टर को सरकार के लिए निष्पक्ष होना चाहिए। सरकार की योजनाओ को गावं-गावं तक पहचाना। जनता की फीडबैक (Feedback) को सरकार तक पहचाना।
  5. अपने देश के प्रति– रिपोर्टर को अपने देश के प्रति भी ईमानदार और निष्पक्ष होना चाहिए।

रिपोर्टर के कार्य और जिम्मेदारियां (Function of Reporting in Hindi)

  • समाज में फैले अंधविश्वास को दूर करना– एक रिपोर्टर समाज के लिए काम करता है। समाज में फैले अंधविश्वास (Blind Faith) से जनता को जागरुक कराता है। जैसे- छुआ-छुत, डायन कह कर औरत को मारना आदि।
  • समाज में फैले कुरीतियां– रिपोर्टर अपने रिपोर्ट के द्वारा जनता, नागरिकों को समझाने की कोशिश करता है। समाज में रुढ़िवादी परम्परा और कुरीतियों से नजरिया बदलने का कोशिश करता है। जैसे- दहेज़ प्रथा, नारी शिक्षा आदि।
  • सरकार द्वारा बनाई गई योजना– एक रिपोर्टर सरकार द्वारा बनाई गई योजना को जनता तक पहुचता है और जनता का फीडबैक सरकार तक पहुचता है। जैसे- प्रधानमंत्री जनधन योजना, प्रधानमंत्री कृषि मानधन योजना आदि।
  • समाज में बढ़ते अत्याचार– एक रिपोर्टर समाज में फैले गंदगी को साफ करने का पूरा कोशिश करता है। जैसे- भ्रूण हत्या, दहेज़ प्रथा आदि।
  • सरकार के साथ– एक रिपोर्टर अपना दायित्व हर तरह से निभाता है। सरकार का अच्छे काम को सराहना तो वही वह सरकार की एक गलती पर उसकी खटिया खड़ा कर देना, यह सिर्फ एक रिपोर्टर ही कर सकता है।

रिपोर्टिंग कैसे करे? (Reporting Kaise Kare)

एक समाचार रिपोर्टर को रिपोर्टिंग, करना साधारण भाषा में पत्रकार कहा जाता है। उनका मुख्य काम खबर बनाना है। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है। जिसमें किसी भी समाचार, घटना या किसी भी जानकारी को एकत्र किया जाता है। मीडिया के माध्यम से इन सारे ख़बरों को घर-घर पहुंचाया जाता है। रिपोर्टिंग में बहुत पॉवर होता है। इसके द्वारा समाज सेवा भी की जाती है। सामाजिक समस्या को देश के सामने लाकर उसका समाधान किया जाता है।

रिपोर्टिंग कैसे करे?
अगर आप चाहते है की आप एक न्यूज़ का सही तरीके से रिपोर्टिंग करे, तो एक रिपोर्टर के पास कुछ कौशल और क्षमताएं का होना जरुरी है। अगर आप में इस प्रकार की कौशल और क्षमताएं है तो आप इस क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ सकते है।

  • आपको अपनी बात दूसरों को बताने की क्षमता होनी चाहिए।
  • आपके पास शब्दों का स्पष्ट ज्ञान होना चाहिए।
  • दूसरों की बात सुनने की क्षमता होनी चाहिए।
  • रिपोर्टिंग करते समय स्पष्ट सवाल करे।
  • जब आप बाइट ले रहे है तो आपको बिच में नहीं बोलना चाहिए।
  • एक सवाल के बाद दूसरा सवाल तौयार रहना चाहिए।
  • किसी भी उलझे सवालों को सुलझाने की क्षमता होना चाहिए।
  • साहस और धैर्य होना बेहद जरुरी है।

इन्हें भी देखे-


निष्कर्ष (Conclusion)

“रिपोर्टिंग क्या है?” कई घटनाएँ ऐसी होती हैं। जिनको कवर करने का असर रिपोर्टर की मानसिक सेहत पर पड़ सकता है। युद्ध, दुर्घटना, प्राकृतिक आपदा, कानूनी मुक़दमे आदि की रिपोर्टिंग के दौरान ऐसे खतरे हो सकते हैं। पत्रकारों को ऐसी घटनाओं का गवाह बनने के लिए बुलाया जाता है। जिनके प्रत्यक्ष अनुभव का अवसर दूसरे लोगों को शायद ही मिलता है। “रिपोर्टिंग क्या है?” वे श्रोताओं की आँख और कान हैं और वे जो देखते और सुनते हैं वो दहलाने और सदमे में डालने वाला अनुभव हो सकता है। ये समझना जरूरी है कि पत्रकार होने के साथ-साथ आप इंसान भी हैं। दरअसल, इंसान होना पत्रकारिता के केंद्र में है। आप जो घटना कवर कर रहे हैं। उससे आप अप्रभावित नहीं रह सकते और इसमें कुछ भी गलत नहीं है।

“रिपोर्टिंग क्या है?” पत्रकार होने का ये मतलब नहीं है कि आपने किसी सुपरमैन की तरह कोई कवच पहना हुआ है कि आप निकले और बिना किसी तरह से प्रभावित हुए रिपोर्ट कवर करने लगें। सबसे पहले, आप जिस काम को करने निकले हैं। उसमें से इन बातों के बारे में (खतरे, चुनौतियाँ, आपकी अपनी सीमाएँ) अपने प्रति ईमानदार रहते हुए विचार करें। आप अपनी चिन्ताओं के बारे में सही लोगों से बात करें। आपकी अपनी सुरक्षा, आपका परिवार, आपका अपना विश्वास बातचीत से मदद मिलती है। तो चुपचाप न रहें। अंत में, उस रिपोर्ट का पता लगाएँ जिसे आपको कवर करना है। विस्तृत तैयारी होगी तो समय पर घबराहट नहीं होगी।

मुझे उम्मीद है की “रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)” पर यह पोस्ट आपको पसंद आया होगा। अगर आपको “रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)” पर पोस्ट अच्छा लगा तो अपने दोस्तों और सोसल मीडिया पर शेयर जरुर करे। अगर आपको “रिपोर्टिंग क्या है? (What is Reporting in Hindi)” को समझने में कोई भी समस्या हो रही है तो आप अपने सवालों को कमेंट करें। हमारी टीम आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द देगी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Reporting in Journalism
Author Rating
51star1star1star1star1star
error: DMCA PROTECTED !! We have saved your IP address and location !!