प्रिंट मीडिया (Print Media) क्या है? भारत में प्रिंट मीडिया और समाचार-पत्र का इतिहास।

प्रिंट मीडिया क्या है? (What is Print Media in Hindi)

आज हम जानेगे की प्रिंट मीडिया क्या है? जानिए हिंदी में (What is Print Media in Hindi)प्रिंट मीडिया का इतिहास (History of Print Media in Hindi)। प्रिंट मीडिया कई भाषाओँ में हैं और केवल समाचार-पत्र तक ही सिमित ना हो कर यह बहुत सारे पत्रों में हैं। स्वतंत्रता आन्दोलन में नामचीन सेनानियों की बातो को जनता तक पहुँचाने में अख़बार का अहम् रोल हैं (प्रिंट मीडिया)। उस समय मात्र समाचार-पत्र ही जनता तक अपनी बात रखने का सबसे बेहतर माध्यम था। यही कारण हैं की प्रिंट मीडिया का अतीत शानदार रहा हैं। वर्तमान में भी प्रिंट मीडिया अपना दायित्व बखूबी निभा रहा हैं। समय के साथ इसमें भी बदलाव आया हैं।

प्रिंट मीडिया क्या है जानिए हिंदी में (What is Print Media in Hindi)

आज भी प्रिंट मीडिया सरल, सुलभ और सस्ता हैं। लिसके कारन आम लोगों की पहली पसंद हैं। हर जगह प्रिंट मीडिया प्रभावी भूमिका निर्वहन कर रहा हैं। प्रिंट मीडिया लोगो पर गहरा प्रभाव डालता हैं। प्रिंट मीडिया की पहुच अधिक लोगो तक हैं। इसी कारन पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिणी तक प्रिंट मीडिया छाया हुआ हैं। इसमें प्रकाशित ख़बरें अमित होती हैं।

प्रिंट मीडिया या समाचार-पत्र का इतिहास (History of Print Media in Hindi)

जब हम बात करते हैं प्रिंट मीडिया की तो उसमें समाचार-पत्र, पत्रिकाएं आदि सम्मिलित हो जाते हैं।

जरुर पढ़े – विज्ञापन क्या है? इन हिंदी (What is Advertising in Hindi)

भारत में प्रिंट मीडिया या समाचार-पत्रों का इतिहास –

  • प्रिंट मीडिया का इतिहास युरोपियें लोगो के आने के साथ ही शुरू होता हैं।
  • 1684 में सर्वप्रथम भारत में प्रिंटिंग प्रेस की स्थापना ईस्ट इंडिया कंपनी ने किया।
  • बंगाल गजट भारत में प्रकाशित होने वाला एक अंग्रेजी भाषा का पहला समाचार-पत्र था।
  • इसके प्रकाशक जेम्स आगस्टक हिक्की थे।
  • यह एक साप्ताहिक पत्र था जो कोलकत्ता से सन 1780 में आरम्भ हुआ।
  • हिक्की गजट के प्रकाशन का एक कारण बाजार के लिए सूचनाएं उपलब्ध करना था।
  • 1782 में इसका प्रकाशन बंद हो गया था।
  • जेम्स हिक्की को भारतीय पत्रकारिता का पितामह माना जाता हैं।
  • उदन्त मार्तण्ड के नाम से प्रकाशित समाचार-पत्र हिंदी भाषा में छपने वाला भारत का पहला समाचार-पत्र था।
  • उदन्त मार्तण्ड के प्रकाशक जुगलकिशोर सुकुल थे।
  • 30 मई 1826 में उदन्त मार्तण्ड की शुरुआत कोलकत्ता से हुआ।
  • यह एक साप्ताहिक पत्र था जो हर मंगलवार को प्रकाशित होता था।
  • 4 दिसम्बर 1827 को यह पत्र बंद हो गया था।
  • उस समय अंग्रेजी, फारसी और बंगला में तो अनेको समाचार-पत्र छपते थे लेकिन होंदी में यह पहला पत्र था।
  • उन दिनों सरकारी सहायता के बिना किसी भी पत्र का चलना प्राय: असम्भव था।
  • सरकार ने मिशनरियों के पत्र को तो डाक की सुविधा दे रखी थी लेकिन उदन्त मार्तंड पत्र को यह सुविधा नहीं मिला।
  • जिसकी वजह से यह सन 1827 में इसका प्रकाशन बंद हो गया।
  • उदन्त मार्तंड हिंदी समाचार पत्र के लिए ही हिंदी पत्रकारिता दिवश मनाया जाता हैं।
  • 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवश मनाया जाता हैं।
  • इस पत्र को प्रकाशित हुए 189 साल हो गया।

अंग्रेजों द्वारा सम्पादित समाचार-पत्र

समाचार-पत्रस्थानवर्ष
टाइम्स ऑफ इण्डियाबम्बई1861 ई.
स्टेटमैनकोलकत्ता1878  ई.
मद्रास मेलमद्रास1868  ई.
पायनियरइलाहबाद1876  ई.

जरुर पढ़े – संचार क्या हैं? (What is Communication in Hindi) – जाने हिंदी में

विभिन भाषाओँ में प्रकाशित अख़बार

समाचार-पत्रसंस्थापक/सम्पादकभाषाप्रकाशन स्थानवर्ष
अमृत बाजार पत्रिकामोतोलाल नेहरूबंगलाकलकत्ता1868
बोसरीबालगंगाधर तिलकमराठीबम्बई1881
हिन्दूएम. जी. रानाडेअंग्रेजीबम्बई1881
हिंदुस्तानमदनमोहन मालवीयहिंदीकलकत्ता1879
हरिजनमहात्मा गाँधीहिंदी गुजरतीअहमदाबाद1919
इंडिपेंडेसमोतीलाल नेहरूअंग्रेजीपूना1919
अल हिलालअबुलकलाम आजादउर्दूकलकत्ता1912
प्रताप पत्रगणेश शंकर विद्यार्थीहिंदीकानपुर1910
उदन्त मार्तण्डजुगलकिशोरहिंदी (प्रथम)कानपुर1826

इन्हें भी देखें –

Karuna Tiwari is an Indian journalist, author, and entrepreneur. She regularly writes useful content on this blog. If you like her articles then you can share this blog on social media with your friends. If you see something that doesn't look right, contact us!

25 thoughts on “प्रिंट मीडिया (Print Media) क्या है? भारत में प्रिंट मीडिया और समाचार-पत्र का इतिहास।”

Leave a Comment

error: DMCA Protected !!
18 Shares
Share18
Tweet
Pin
Share