नारी शिक्षा क्या है? (What is Women Education in Hindi) – जानिये हिंदी में।

नारी शिक्षा क्या है? (Nari Shiksha Kya Hai)

नारी शिक्षा क्या है? (What is Women Education in Hindi)” भारत में नारी शिक्षा (Women Education) अब एक सबसे महत्वपूर्ण विषय है। शिक्षा (Education) हर व्यक्ति का मौलिक मानवीय अधिकार है। लेकिन हमारे समाज के कुछ लोग इस बात को नहीं समझते हैं। इस तरह की इतनी सरल बात को बेहद जटिल बना देते हैं। “नारी शिक्षा क्या है?” हमें इस बात को याद रखना होगा की यदि यह महिलाएँ अशिक्षित (Uneducated) है, तो आबादी का आधा हिस्सा अशिक्षित (Uneducated) है।

एक महिला को शिक्षित (Educated) करने का मतलब है। परिवार (Family) और राष्ट्र (Nation) को शिक्षित (Educated) करना है।” देश की सामाजिक (Social) और आर्थिक (Economic) स्थिति में कुछ सकारात्मक (Positive) बदलाव लाने के लिए पुरुषों की तरह ही भारत में भी नारी शिक्षा (Women Education) को बहुत प्राथमिकता दी गई है। अतीत में महिलाओं को अपने घरों के दरवाजे से बाहर जाने की अनुमति नहीं थी। वे केवल घरेलू कार्यों तक ही सीमित रहती थी।

नारी शिक्षा क्या है? (What is Women Education in Hindi)

What is Women Education in Hindi

नारी शिक्षा क्या है?” ब्रिटिश शासन के दौरान, हमारे भारत देश में ‘राजा राम मोहन राय (Raja Ram Mohan Roy) और ईश्वर चंद्र विद्यासागर (Ishwar Chandra Vidyasagar)’ जैसे प्रसिद्ध समाज सुधारक (Social Reformer) थे। स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) ने भी, जिन्होंने नारी शिक्षा (Women Education) को बढ़ावा दिया। देश की आबादी में पुरुष और महिला दोनों शामिल हैं।

नारी शिक्षा क्या है?” वे सिक्के के दो पहलू की तरह है। इसलिए देश के विकास के लिए महिलाओं को शिक्षित (Educated) करना अति आवश्यक है। क्योंकि महिलाएं भविष्य की पीढ़ी (Generation) को जन्म देती हैं। यदि वे अच्छी तरह से शिक्षित (Educated) होंगे, तो वे शिक्षित भविष्य की पीढ़ी को जन्म देंगे और इस प्रकार भारत में स्वस्थ (Healthy), सामाजिक (Social) और आर्थिक (Economic) स्थिति बेहतर होगी।


विश्व स्तर पर महिलाओं को सशक्त बनाने और उन्हें उनके मानवाधिकारों के उल्लंघन से बचाने का सबसे शक्तिशाली साधन शिक्षा को माना जाता है। महिलाओं के जीवन, और उनके परिवारों और समुदायों के जीवन को शिक्षा (Education) के जरिए बचा सकते है। यह सभी के लिए सकारात्मक, स्थायी परिवर्तन लाने में सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। “कहते है की जब एक औरत शिक्षित होती है, तो एक पूरा परिवार शिक्षित होता है।”


शिक्षा क्या है? (Shiksha Kya Hai)

शिक्षा क्या है? (Shiksha Kya Hai)

Shiksha Kya Hai

वह प्रणाली जिसके माध्यम से नई पीढ़ियों में संस्कृति, सभ्यता और युग-युग से संचित या इकट्ठा ज्ञान का संचार होता है। उसे ‘शिक्षा प्रणाली‘ (Education System) कहा जाता है। भारत में प्राचीन शिक्षा प्रणाली बहुत उन्नत (Advanced) थी। यहाँ के तक्षशिला (Takshshila), नालंदा (Nalanda) आदि के विश्वविद्यालय (University) विश्व प्रसिद्ध थे। यहाँ पर कई देशों के छात्र शिक्षा पाने आया करते थे।

लेकिन पिछली 12 शताब्दियों की राजनीतिक (Political) और सामाजिक (Social) उथल-पुथल (Upheaval) के परिणामस्वरूप, भारत की शिक्षा प्रणाली नष्ट और भ्रष्ट हो गई। जिस देश में दुनिया भर के लोग शिक्षा के लिए आते थे। उसकी अपनी ही शिक्षा प्रणाली नष्ट हो गई।

शिक्षा एक धीरे-धीरे प्राप्त करने की प्रक्रिया है। जो मानव जीवन और व्यवहार (Behavior) में सकारात्मक (Affirmative) बदलाव लाती है। शिक्षा व्यक्ति के तर्क और इच्छित लक्ष्य को प्राप्त करने की क्षमता में एक प्राकृतिक और स्थायी परिवर्तन लाती है। यह हमें अपने स्वयं के विचारों पर दोबारा विचार करने के लिए मजबूर करता है।

शिक्षा स्पष्ट रूप से सोचने की शक्ति (Power of Thinking) है। दुनिया के काम में अच्छी तरह से अपना विचार प्रगत करने और कार्य करने की शक्ति है। शिक्षा ही जीवन की सराहना करने की शक्ति है। वास्तविक शिक्षा वह है जो हमें अपने ज्ञान से दुसरो को शिक्षित करना होता है।

शिक्षा क्षण भर में भरने वाला कोई वास्तु नहीं है। बल्कि यह आग की रोशनी है। इसे प्राप्त करने के लिए कोई उम्र की सीमा नहीं होती है। इसे जितना प्राप्त करोगे। आपके अन्दर उतना ही और जानने की आग लगेगी।

सीधे तौर पर, हम कह सकते हैं। “शिक्षा प्रगति का मार्ग है“। यह अतिरिक्त रूप से हमारे भाग्य का रास्ता है। क्योंकि उपलब्धियों को केवल तभी पूरा किया जा सकता है। जब व्यक्तियों के पास जानकारी, क्षमता और ज्ञान का ढांचा हो। इस तरह, शिक्षा एक ऐसा माध्यम है। जिसके माध्यम से हम विभिन्न व्यक्तियों से जुड़ सकते हैं और अपने विचारों को प्रस्तुत कर सकते हैं।

से भी जरुर पढ़े नगर निगम क्या है? (What is Municipal Corporation in Hindi) – जानिए हिंदी में।

शिक्षा का अर्थ (Meaning of Education in Hindi)

शिक्षा का अर्थ पूर्णता की अभिव्यक्ति है, जो सभी मनुष्यों में पहले से मौजूद है। यदि ज्ञान और शक्ति का एक अनंत स्रोत मनुष्य के भीतर मौजूद नहीं है, तो वह हजारों तरीकों की कोशिश करने के बाद भी कभी भी ज्ञानवान और शक्तिशाली नहीं बन सकता है। किसी भी तरह से ज्ञान और शक्ति में प्रवेश नहीं कर सकते हैं।

लेकिन केवल उस ज्ञान और शक्ति की अभिव्यक्ति में आने वाली बाधाओं को दूर करने में मदद करते हैं। उन बाधाओं को हटाने के साथ-साथ, इसके भीतर अनंत ज्ञान और असीम शक्तियां प्रदान करती हैं। इसलिए, उन बाधाओं को हटाने के विशिष्ट उपायों को ‘शिक्षा‘ कहा जाता है। शिक्षा” शब्द, लैटिन शब्द  “Aducation” से लिया गया है। जो “Oduco” से जुड़ा हुआ है। जो कि होमोसेक्सुअल (Fagot) से संबंधित है।

शिक्षा के प्रकार (Types of Education in Hindi)

शिक्षा के प्रकार (Shiksha Ke Prakar Hindi Me)

Shiksha Ke Prakar Hindi Me

शिक्षा मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है।

  1. औपचारिक शिक्षा (Formal Education)
  2. अनौपचारिक शिक्षा (Informal Education)
  3. गैर-औपचारिक शिक्षा (Non-Formal Education)

1. औपचारिक शिक्षा (Formal Education)

औपचारिक शिक्षा (Formal Education) आमतौर पर स्कूल परिसर में होती है। जहाँ व्यक्ति बुनियादी (Basic), शैक्षणिक (Educational) या व्यावसायिक (Professional) कौशल (skill) सीख सकता है। छोटे बच्चे अक्सर नर्सरी या बालवाड़ी (Nursery School) में पढ़ने जाते हैं। लेकिन अक्सर औपचारिक शिक्षा (Formal Education) प्राथमिक स्कूल (Primary School) में शुरू होती है और माध्यमिक स्कूल (Secondary School) के साथ जारी रहती है। माध्यमिक शिक्षा या उच्च शिक्षा आमतौर पर एक कॉलेज या विश्वविद्यालय में होती है। जो एक शैक्षणिक डिग्री (Education Degree) प्रदान कर सकती है।

यह एक विशिष्ट चरण के साथ जुड़ा हुआ है और नियमों और विनियमों के एक निश्चित सेट के तहत प्रदान किया जाता है। औपचारिक शिक्षा विशेष रूप से योग्य शिक्षकों (Teachers) द्वारा दी जाती है। जिन्हें वे शिक्षा की कला में कुशल मानते हैं। छात्र और शिक्षक दोनों ही तथ्यों से अवगत होते हैं और शिक्षा की प्रक्रिया में संलग्न (Attach) होते हैं।

से भी जरुर पढ़े पनीर बटर मसाला बनाने की विधि हिंदी में (Paneer Butter Masala Recipe in Hindi)

2. अनौपचारिक शिक्षा (Informal Education)

औपचारिक शिक्षा के विपरीत, अनौपचारिक शिक्षा किसी स्कूल या कॉलेज जैसी संस्था द्वारा प्रदान नहीं की जाती है। यह कोई निश्चित समय सारिणी के अनुसार अनौपचारिक शिक्षा नहीं दी जाती है। किसी भी निर्धारित पाठ्यक्रम की आवश्यकता नहीं है। अनौपचारिक शिक्षा में अनुभव हैं और वास्तव में परिवार या समुदाय में रहते हैं।

3. गैर-औपचारिक शिक्षा (Non-Formal Education)

गैर-औपचारिक शिक्षा (Non-Formal Education) में वयस्क बुनियादी शिक्षा (Adult Basic Education), वयस्क साक्षरता शिक्षा (Adult Literacy Education) या स्कूल समकक्षता (School Equivalency) तैयारी शामिल है। गैर-शिक्षा (Non Education) में, जो लोग स्कूल में नहीं है। वो पढ़ने लिखने की योग्यता, अन्य बुनियादी कौशल (Basic Skills) या नौकरी कौशल (Job Skills) सीख सकते है। गृह शिक्षा (Home Education), व्यक्तिगत मार्गदर्शन (Personal Guidance), दूरस्थ शिक्षा (distance Education) और कंप्यूटर की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

शिक्षा के उद्देश्य (Purpose of Education in Hindi)

1. चरित्र निर्माण (Character Building in Hindi)

शिक्षा (Education) का मुख्य उद्देश्य चरित्र निर्माण (Character Building) करना है। शिक्षा (Education) प्राप्त करने के बाद छात्र के चरित्र में बदलाव ही, शिक्षा की सफलता है। शिक्षा के बिना मनुष्य पशु के समान माना जाता है। शिक्षा प्राप्त करने के बाद, एक व्यक्ति अपने बारे में, परिवार (Family) और समाज (Society) के बारे में एक सकारात्मक सोचता है। शिक्षा (Education) ही एक मात्र ऐसा साधन है। जो की मनुष्य को मनुष्य में ही भिन्नता उत्पन्न करती है। यानि शिक्षित और अशिक्षित में अंतर दिखता है। एक शिक्षित व्यक्ति हमेशा अपने समाज की दक्षता या कुशलता के बारे में सोचेगा। जबकि शिक्षा विहीन व्यक्ति अपने स्वार्थ को पूरा करने में व्यस्त रहता है। वैदिक शिक्षा का उद्देश्य है। एक आदर्श चरित्र का निर्माण करना है। शिक्षा तभी सार्थक मानी जाती है। जब छात्र अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता पाते है। शिक्षा का मुख्य उद्देश्य महान चरित्र का निर्माण करना है।

से भी जरुर पढ़े स्वामी विवेकानंद की जीवनी (Swami Vivekananda biography in Hindi)

2. व्यक्तित्व का विकास (Development of Personality in Hindi)

शिक्षा एक इंसान से दूसरे इंसान में अंतर पैदा करती है। एक शिक्षित व्यक्ति अपने बारे में नहीं, समाज के हित के बारे में सोचता है। व्यक्तित्व का समग्र विकास शिक्षा का एकमात्र उद्देश्य है। शारीरिक और बौद्धिक क्षमता (Intellectual Ability) समान रूप से शिक्षा द्वारा विकसित की जाती है। मानसिक शक्तियों (Mental Powers) के विकास के लिए स्वस्थ शरीर का अत्यधिक महत्व है। ऐसा माना जाता है कि “स्वस्थ मस्तिष्क”, “स्वस्थ शरीर” में रहता है। छात्र में आत्म-सम्मान (Self Respect) की भावना को बढ़ावा दिया जाता है। उसमें आत्म-नियंत्रण (Self-Control) और आत्मविश्वास की भावना को बढ़ाने के लिए इंद्रियों को वश में करने की कोशिश की जाती है।

नारी शिक्षा क्यों जरूरी है? (Why is Women’s Education Important in Hindi)

शिक्षा सभी का मौलिक अधिकार है और इसलिए शिक्षा की सुविधाएं प्रदान करते समय, हमें लड़के-लड़की के बीच भेदभाव नहीं करना चाहिए। दुर्भाग्य से, यह भेदभाव अभी भी दुनिया के कई हिस्सों में हो रही है। इसलिए लोगों को यह समझाने की आवश्यकता है कि महिलाओं को शिक्षित होने का अधिकार है।

नारी शिक्षा का मुख्य बिंदु-

  1. यह उनका मौलिक अधिकार है- सबसे पहले, शिक्षा सभी के लिए एक बुनियादी या मूल अधिकार है यह किसी को नहीं भूलना चाहिए कि महिलाएं भी हमारे देश के विकास का हिस्सा हैं। हमारे समाज में महिलाओं की एक बड़ी आबादी है। जिनकी वजह से हमारा समाज शिक्षित होता है। “घर में बच्चे का पहला शिक्षा माँ से ही मिलता है और अगर ये महिलाएं निरक्षर होती है, तब उनका बच्चा भी निरक्षर ही रह जाता हैं।” इससे हमारे देश को बहुत बड़ी क्षति होगी। अमीर (Rich), गरीब (Poor), युवा (Young), बूढ़े (Older), विवाहित (Married), अविवाहित (Unmarried), विधवा (Widow) या किसी भी सामाजिक स्थिति के साथ सभी लड़कियों और महिलाओं को शिक्षा प्राप्त करने का मूल अधिकार है। शिक्षा कोई विशेषाधिकार (Privilege) नहीं बल्कि एक मौलिक अधिकार है।
  2. शिक्षा समाज में समानता लाएगा- असमानता और भेदभाव हमेशा जड़ स्तर पर (घर से) शुरू होता है। जब कोई लड़का स्कूल जाता है और उसकी बहन केवल इसलिए लौटती है। क्योंकि वह एक लड़की है। तो वह लड़के के दिमाग में भेदभाव का बीज बोती है। उसे लगता है कि वह सिर्फ इसलिए श्रेष्ठ है, क्योंकि वह एक लड़का है। जब महिलाएं लड़कों के साथ स्कूलों और कॉलेजों में जाकर शिक्षा में भाग लेती हैं, तो लड़कों को शिक्षा के मूल अधिकारों का एहसास तो होता है। लेकिन लड़के के अन्दर यही भावना होता है की लड़कियां घर के अन्दर रहनी चाहिए। इसलिए, पुरुषों और महिलाओं को शिक्षित करना समानता (Equality)और लोकतंत्र (Democracy) के विचार को बढ़ावा देता है।
  3. यह उन्हें स्वतंत्र और आत्मविश्वास बढ़ता है- यह बिल्कुल सच है कि शिक्षा व्यक्ति को स्वतंत्र बनाती है। शिक्षा हमें दूसरों के साथ अच्छी बर्ताव और आजीवन कमाने में सक्षम बनाने के लिए कौशल प्रदान करती है। जब महिलाएं शिक्षित हो जाती हैं। तब उन्हें किसी भी चीज के लिए अपने परिवार पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है। शिक्षा उनके आत्मविश्वास का निर्माण करता है। शिक्षा उनको इस तरह काबिल बना देता है की वह अपना निर्णय खुद लेने में समर्थ रखती है। इसलिए महिलाओं को स्वतंत्र और आत्मविश्वासी बनाने के लिए महिलाओं के लिए शिक्षा वास्तव में महत्वपूर्ण है।
  4. राष्ट्र का विकास होता है- महिलाएं कुल आबादी का लगभग 50% हिस्सा बनाती हैं। अगर उन्हें अशिक्षित छोड़ दिया जाता है तो राष्ट्र का एक बड़ा हिस्सा इसके विकास में योगदान नहीं करेगा जो एक बड़ी समस्या है। इसलिए, महिलाओं को शिक्षित करना किसी देश के विकास को बढ़ावा देना है।

नारी शिक्षा का महत्व (Importance of Women Education in Hindi)

नारी शिक्षा का महत्व (Importance of Women Education in Hindi)

Importance of Women Education in Hindi

यह साबित हो गया है कि शिक्षा प्राप्त करने वाली महिलाएं किसी भी देश के लिए बेहद फायदेमंद हैं। यह देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाता है। शिक्षा प्राप्त करने बाद महिलाएं डॉक्टर (Doctor), शिक्षक (Teacher), वकील (Lawyer), बैंकर (Banker), वैज्ञानिक (Scientist), राजनीतिज्ञ (Politician) आदि बन रही है।

जब महिलाएं काम करती हैं, तो वे अपने परिवारों को अधिक आर्थिक रूप से और अपने देश की अर्थव्यवस्था में मदद करती है। महिलाओं को अच्छी नौकरी करने की अनुमति देने में, महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वतंत्र होने की अनुमति देता है। जिससे महिलाओं के लिए पुरुषों में अपराधों और हिंसा की मात्रा कम हो जाती है।

शिक्षा महिलाओं को अपने प्रति हो रहे अत्याचार पर आवाज उठाने में सक्षम होती है। साथ ही, शिक्षित महिलाएँ बेहतर परिवार बनाती है। क्योंकि वे अपने परिवार के लिए बेहतर शिक्षा प्रदान करने और अपने बच्चों की परवरिश (Upbringing) करने में सक्षम होती हैं।

और शिक्षित होता है। बच्चे का भविष्य उज्जवल होता है। जो आपके देश को लाभ पहुंचाता है। देश की जीडीपी (G.D.P.) लड़कियों को शिक्षित करने से भी लाभान्वित होती है। क्योंकि यह साबित हो गया है कि, शिक्षा प्राप्त करने वाली प्रत्येक 10 प्रतिशत लड़कियों के लिए, देश की जीडीपी (G.D.P.)  में 3 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है।

से भी जरुर पढ़े– फोटोग्राफी क्या है? (What is Photography in Hindi) – पूरी जानकारी हिंदी में।

दुनिया के कई हिस्से में महिलाओं के लिए शिक्षा प्राप्त करना बहुत मुश्किल है। क्योंकि उन्हें अक्सर कही घूमने जाने के लिए या नौकरी करने के लिए पुरुष- उनके पिता (Father), भाई (Brother), पति (Husband) अनुमति लेनी पड़ती है। (‘यहां अनिमती लेना गलत नहीं बताया जा रहा है।’)

और उन्हें अनुमति नहीं मिलती है। उन्हें अपने तरह से जिन्दगी जीने का भी अनुमति लेना पड़ता है। शादी के पहले पिता और भाई से, शादी के बाद पति से अनुमति लेनी पड़ती है। क्योंकि वे यह मानते हैं, कि महिलाओं को शिक्षा की आवश्यकता नहीं है। वह रसोईघर में ही अच्छी लगती है।


इन्हें भी देखे –


निष्कर्ष (Conclusion)

मुझे आशा है कि “नारी शिक्षा क्या है? (What is Women Education in Hindi)“, “नारी शिक्षा क्यों जरूरी है?”, “Nari Shiksha Kya Hai” नारी शिक्षा से सम्बन्धित सारे सवालों का जवाब आवश्य मिल गये होंगे। आज स्त्रियाँ केवल चुल्हे-चौका और सुई-धागे तक ही नहीं बँधी हैं। वे लोग पुरुषों की तरह बाहर भी कार्य कर रही हैं। समय तेजी से बदला है। ऐसे बदलते समय में “नारी शिक्षा” अहम भूमिका अदा करती है। यह उन्हें आगे बढ़ने के लिए तैयार करती है। लड़के एवं लड़कियों को शिक्षा पाने का समान अधिकार है। उनके लिए अलग-अलग स्कूल और कॉलेज खोलना कठिन कार्य है। नि:संदेह, उनके लिए कुछ अलग-अलग स्कूल एवं कॉलेज हैं। अगर आपको “नारी शिक्षा क्या है? (What is Women Education in Hindi)” पर पोस्ट पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर शेयर आवश्य करे। अगर इस पोस्ट यानि “Nari Shiksha Kya Hai” में कोई भी समस्या हो तो आप मुझे कमेंट करे। हमारी टीम आपकी पूरी मदद करेगी।

error: DMCA PROTECTED !! We have saved your IP address and location !!